Maa Durga ke navratri Divas 9 siddhidatri ko Lal Rang ki Sadi phone Aane sher per Sawar hokar navdurga ki sabse Gaushala Li mein se ek ke roop mein the west

Navratri Divas 9 siddhidatri ko Lal Rang ki Sadi phone Aane sher per Sawar hokar 

  • Navami devi Durga ke man ko sampadit Kiya Gaya navratri ka Nava Din yani Maha Navami Devi Durga ke Nav Roop man ko aisa Mana Jata Hai Ki is durga ke Rakshak Maha Mahishasur ka
  • vadh kiya isiliye kaha jata hai devi dainik ko Lal Rang ki Sadi aur Sher per Sawar navdurga ke gosh gosh thaili mein ke roop Mein darshaya gaya hai vah Apne 4 Hathon Mein ek Sangh Ek
  • Chakra aur ek dharak karti hai sidhi Dayani do shabd dayani Ka Mel hai chin ka Arth hi shakti pradan karne wala aisa Mana Jata Hai Ki navmi per Devi Siddhi Dayani ki Puja karne se kai
  • sidhiyon ki Prapti hoti hai anusar ful 8 Prakar ki Sindhiya maujud hai animal dot mahima
  • नवरात्रि दिवस 9 सिद्धिदात्री को लाल रंग की सीधी फोन आने शेर प्रति सावर होकर नवदुर्गा की सबसे गौशाला ली में से एक के रूप में चिन चित्रा किया गया है आर्थिक दिन जानी महा

    नवमी देवी दुर्गा के मन को संपदा किया गया नवरात्रि का नव दिन यानी महा नवमी देवी दुर्गा के नव रूप मन को ऐसा माना जाता है की दुर्गा के रक्षक महा महिषासुर का

    वध किया इसिलिए कहा जाता है देवी दैनिक को लाल रंग की सदी और शेर प्रति सावर नवदुर्गा के गोश घोष थाली में के रूप में दर्शन गया है वह अपने 4 हाथो में एक संघ ए

    चक्र और एक धारक कर्ता है सीधी दयानी दो शब्द दयानी का मेल है चिन का अर्थ ही शक्ति प्रदान करने वाला ऐसा माना जाता है की नवमी प्रति देवी सिद्धि दयानी की पूजा करने से काई
    सिद्धियों की प्राप्ति होती है अनसार फुल 8 प्रकर की सिंधिया मौजुद है पशु डॉट महिमा

  • Navratri Divas 9
    Navratri Divas 9

    मां शैलपुत्री
    प्रथम नवरात्रि में मां दुर्गा की शैलपुत्री के रूप में पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय की पुत्री शैलपुत्री की पूजा करने से मूलाधार चक्र जाग्रत हो जाता है और साधकों को सभी प्रकार की सिद्धियां स्वतः ही प्राप्त हो जाती हैं। माता का वाहन वृषभ है और उन्हें गाय का घी या उससे बनी वस्तुएँ अर्पित की जाती हैं।

    माँ ब्रह्मचारिणी
    दूसरे नवरात्र में मां के ब्रह्मचारिणी और तपस्चारिणी रूपों की पूजा की जाती है. मां के इस रूप की पूजा करने वाले साधकों को तप, त्याग, वैराग्य, संयम और सदाचार की प्राप्ति होती है और जीवन में उन्होंने जो संकल्प किया है उसे पूरा करके ही जीते हैं. माँ को चीनी का आनंद लेना बहुत पसंद है।
    माँ चंद्रघंटा
    माता के इस रूप में उनके सिर पर घंटे के आकार का आधा चंद्रमा होने के कारण उनका नाम चंद्रघंटा पड़ा और तीसरे नवरात्र में मां के इस रूप की पूजा की जाती है और मां की कृपा से साधक को सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। दुनिया की परेशानी। . सिंह की सवारी करने वाली माता को दूध का भोग बहुत अच्छा लगता है।
    maan shailaputree
    pratham navaraatri mein maan durga kee shailaputree ke roop mein pooja kee jaatee hai. parvataraaj himaalay kee putree shailaputree kee pooja karane se moolaadhaar chakr jaagrat ho jaata hai aur saadhakon ko sabhee prakaar kee siddhiyaan svatah hee praapt ho jaatee hain. maata ka vaahan vrshabh hai aur unhen gaay ka ghee ya usase banee vastuen arpit kee jaatee hain.

    navratri Divas 9
    navratri Divas 9

    maan brahmachaarinee https://jdfilmsonline.com/
    doosare navaraatr mein maan ke brahmachaarinee aur tapaschaarinee roopon kee pooja kee jaatee hai. maan ke is roop kee pooja karane vaale saadhakon ko tap, tyaag, vairaagy, sanyam aur sadaachaar kee praapti hotee hai aur jeevan mein unhonne jo sankalp kiya hai use poora karake hee jeete hain. maan ko cheenee ka aanand lena bahut pasand hai.
    maan chandraghanta
    maata ke is roop mein unake sir par ghante ke aakaar ka aadha chandrama hone ke kaaran unaka naam chandraghanta pada aur teesare navaraatr mein maan ke is roop kee pooja kee jaatee hai aur maan kee krpa se saadhak ko sabhee kashton se mukti mil jaatee hai. duniya kee pareshaanee. . sinh kee savaaree karane vaalee maata ko doodh ka bhog bahut achchha lagata hai.
    Show less https://jdfilmsonline.com/ 

 

 

Leave a Comment